बिहटा एयरपोर्ट 2021 तक बनकर होगा तैयार

0
1625
bihar breaking news

बिहटा में एयरपोर्ट निर्माण कार्य मई 2019 से शुरू होगा और 2021 तक इसे पूरा कर लिया जायेगा। इसके लिए बिहटा एयरफोर्स स्टेशन के आसपास की अधिग्रहित की गयी 108 एकड़ जमीन एयरपोर्ट ऑथोरिटी को मिल गयी है। गुरुवार को बिहार सरकार की ओर से बिहटा एयरपोर्ट के लिए 108 एकड़ जमीन को हस्तांतरित कर दी गयी है। बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण खुली जमीन में होना है, जिससे यहां का निर्माण कार्य 2021 तक पूरा कर लिए जाने की संभावना है।

कम हो पायेगा पटना एयरपोर्ट का लोड

जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पटना का लोड अभी अगले साल जून तक कम होने की संभावना नहीं है। जोर-शोर से चल रहे दरभंगा एयरपोर्ट का निर्माण कार्य अगले साल जून तक पूरा हो जाने की संभावना है। इसके पूरा होने के बाद ही यहां से विमान उड़ान भरना शुरू करेंगे। पहले चरण में दरभंगा से दिल्ली और मुंबई के लिए उड़ान शुरू होगा। क्षेत्रीय संपर्कता योजना के अंतर्गत शुरू किये गये इस हवाई सेवा की आधी सीटों पर प्राइस कैपिंग लागू होगी, जिससे बाजार मूल्य से काफी कम कीमत पर टिकटें उपलब्ध होंगी।

दो चरणों में होगा बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण

विश्व एविएशन दिवस पर आयोजित विशेष परिचर्चा के दौरान जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के निदेशक राजेन्द्र सिंह लाहोरिया ने कहा कि बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण कार्य अगले साल से शुरू होना है। गुरुवार को बिहार सरकार की ओर से बिहटा एयरपोर्ट के लिए 108 एकड़ जमीन को हस्तांतरित कर दी गयी है।  हालांकि, बिहटा एयरपोर्ट पर भी अभी के हालात में अंतरराष्ट्रीय विमानों का परिचालन शुरू नहीं किया जा सकता है। इसके लिए 156 एकड़ और जमीन की आवश्यकता है, जो राज्य सरकार देने के मूड में नहीं है। राज्य सरकार से कम जमीन के लिए फिर प्रस्ताव देने को कहा गया है। इस जमीन के मिलने के बाद ही रन वे बढ़ाया जा सकता है। तब जाकर बोइंग 747 जैसे अंतरराष्ट्रीय विमान को उतारा जा सकेगा।

बिहटा एयरपोर्ट का निर्माण दो चरणों में होगा और हरेक चरण में निर्मित संरचना की क्षमता 25 लाख यात्रियों की होगी। पटना एयरपोर्ट के एप्रोच लाइट का कमीशन डीजीसीए जल्द ही कर देगी। उसके बाद इसका इस्तेमाल शुरू कर दिया जायेगा। प्रेस वार्ता के दौरान पटना एयरपोर्ट के नये टर्मिनल भवन, उसके सामने के अशोक स्तंभ, मल्टी लेवल कार पार्किंग, इंट्री और एग्जिट गेट का एक होना और एलिवेटेड सड़क से टर्मिनल में प्रवेश की व्यवस्था जैसी विशेषताओं पर विस्तार से पीपीटी से प्रकाश डाला गया।

पांच वर्षो में तीन गुना बढ़ गई यात्रियों की संख्या

एयरपोर्ट निदेशक श्री लाहोरिया ने बताया कि पटना एयरपोर्ट पर पिछले पांच साल के दौरान यात्रियों की संख्या 10 लाख से बढ़कर 35 लाख तक पहुंच चुकी है। विमानों की संख्या भी ढाई गुना से अधिक बढ़ चुकी है। अभी तक यहां विमानों को खड़ा करने के लिए चार ही पार्किंग वे है। अब दस से पन्द्रह दिनों के अंदर दो और पार्किंग बे बनकर तैयार हो जाएगी। इसके बाद पार्किंग वे की संख्या छह हो जाएगी।

पार्किंग बे की संख्या बढ़ने पर सर्दियों में होने वाले भीड़ भाड़ के समय विमानों को पार्किंग बे खाली होने के इंतजार में आसमान में लंबे समय तक चक्कर नहीं लगाना होगा। पटना एयरपोर्ट के विस्तार के लिए आईसीएआर की जमीन मांगी गयी है। यदि मिली, तो यहां भविष्य में पटना एयरपोर्ट के टर्मिनल टू का निर्माण होगा।