Monday, July 15, 2024
HomeबिहारBihar Land Mutation: एडीएम से होगी केवाला की जांच

Bihar Land Mutation: एडीएम से होगी केवाला की जांच

हाल के वर्षों में, बिहार ने अपने भूमि प्रशासन प्रणाली में एक परिवर्तनात्मक यात्रा पर उतरी है, विशेष रूप से Bihar Land Mutation को नियामक नई नीतियों के परिचय के साथ। इस पहल का उद्देश्य सिर्फ भूमि पंजीकरण और म्युटेशन प्रक्रिया को सुचारित करने का ही नहीं है, बल्कि दशकों से प्रणाली को घेरे भ्रष्टाचार का भी समापन करना है।

राजस्व विभाग द्वारा लागू की गई नई नियमों के अनुसार, अब किसी भी भूमि म्युटेशन संबंधी लेन-देन में संबंधित भूमि के किवाला (हक़ का दस्तावेज़) की पूरी जाँच की आवश्यकता है। इससे पहले के प्रथाओं से अंतर्निहित थे, जहां नकली किवाला पर आधारित धांधलीपूर्ण Bihar Land Mutation सामान्य थे। अब, किसी भी भूमि म्युटेशन को मंजूरी देने से पहले, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट (एडीएम) द्वारा जांच अनिवार्य है, जिससे प्रस्तुत किवाला की प्रामाणिकता और सटीकता सुनिश्चित होती है।

यह पहल उस जरूरत के चलते शुरू की गई थी, जिसे नकली दस्तावेजों का उपयोग करके अवैध रूप से भूमि स्वामित्व को हस्तांतरित किया गया था। इससे न केवल वैध भूमि स्वामियों के हित की रक्षा हुई है, बल्कि भूमि पंजीकरण प्रक्रिया में जवाबदेही और पारदर्शिता भी आई है।

सर्वेक्षण और निगरानी की मजबूती

इन सुधारों का समर्थन करने के लिए, बिहार सरकार ने Bihar Land Mutation को मजबूत करने के लिए संसाधन आवंटित किए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा घोषित करीब 10,000 सर्वेक्षण अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इस कदम का उद्देश्य अविचलित रूप से पंडित सर्वेक्षणों को समाप्त करना है, जिससे भूमि रिकॉर्ड को अद्यतित किया जा सके और उसकी सटीकता सुनिश्चित की जा सके।

इसके अतिरिक्त, शहरी राजस्व अधिकारियों को ग्रामीण क्षेत्रों में तैनात करने से बिहार सरकार ने प्रशासनिक निगरानी को मजबूत करने का रणनीतिक विचार किया है। जिला मजिस्ट्रेट्स (डीएम) को निर्देशित किया गया है कि उन्हें पांच वर्ष से अधिक समय तक एक ही स्थान पर तैनात राजस्व अधिकारियों को विभिन्न पदों पर भेजा जाए। यह बदलावी नीति साझेदारी की संभावना को कम करने और भूमि संबंधी मामलों में निष्पक्ष आचरण सुनिश्चित करने का उद्देश्य रखती है।

राजस्व अधिकारियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई

हाल के घटनाओं में, जैसे कि किशनगंज जिले के बहादुरगंज में घूसखोरी में शामिल अधिकारियों की गिरफ्तारी, सरकार की भ्रष्टाचार के खिलाफ सक्रमित स्थांयी कदमों को लेकर उभारने से प्रेरित करते हैं। मंत्री दिलीप कुमार जयस्वाल ने प्रशासनिक प्रथाओं में अनियमितताओं के खिलाफ त्वरित कार्रवाई को बल दिया। कई जिला अधिकारियों को अनियमितताओं के सम्बंध में शिकायत की गई है, जो सरकार की सेवा में ईमानदारी को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

मंत्री जयस्वाल ने खुलासा किया कि चल रही कोशिशों के बावजूद, एक ऐसे गिरोह को खत्म करने की कोशिश की जा रही है जो पैसे कमाने के लिए नकली किवाला दस्तावेज़ों को तैयार करता है। इस गिरोह ने तीन साल तक कार्य किया था, जिसने भूमि पंजीकरण प्रक्रिया में कमजोरियों का उपयोग कर निर्दोष भूमि स्वामियों को धोखा देकर उन्हें नकली भूमि के खाते खरीदने में मजबूर किया। ऐसे दुर्भाग्यपूर्ण प्रथाओं से व्यक्तियों को भारी राशियों का ठगी किया जाता है, साथ ही प्रशासनिक प्रक्रियाओं में जनता के विश्वास को भी अंतर्निहित किया जाता है।

इसके साथ ही, विभागीय कामकाज में भ्रष्टाचार के किसी भी मामले की सूचना या शिकायत के लिए वे आम लोगों से अपील करते हैं। इसके लिए लोग विभाग के अपर मुख्य सचिव या मंत्री के ई-मेल आईडी revenueminister.bihar@gmail.com पर सीधे शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

Bihar Land Mutation के लिए तकनीकी उन्नति

पारदर्शिता और कुशलता में और भी वृद्धि के लिए, राजस्व विभाग ने भूमि विवाद और भ्रष्टाचार संबंधी शिकायतों के लिए एक विशेष पोर्टल लॉन्च किया है। इस पोर्टल से यह सुनिश्चित होता है कि शिकायतें निर्धारित समय-सीमा के अंदर संबंधित होती हैं, जब तक विवाद सुलझाने के बिना कोई अनुप्रयोग प्रस्तुत नहीं किया जाता है। इस पहल का उद्देश्य नागरिकों को सशक्त करना है, जिन्हें सीधे सरकारी अधिकारियों या मंत्री को ईमेल के माध्यम से शिकायतें दर्ज करने का प्लेटफ़ॉर्म प्राप्त है।

इसके अतिरिक्त, विभाग ने ई-मैपिंग और डिजिटल प्रलेखन के लिए ऑनलाइन प्रक्रियाओं का प्रस्ताव किया है, जिससे Bihar Land Mutation और अन्य भूमि संबंधी मुद्दों के लिए त्वरित समाधान सुनिश्चित हो सके। इन डिजिटल पहलों का उद्देश्य ब्यूरोक्रेटिक देरी को कम करना और एक अधिक प्रतिक्रियाशील प्रशासन ढांचे को प्रोत्साहित करना है।

Bihar Land Mutation के अंतर्गत सुधार न तो केवल जवाबदेहीपूर्ण प्रशासन और भूमि प्रशासन में ईमानदारी की दिशा में एक परादिग्म शिफ्ट को संकेत करते हैं। प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर और कठोर निगरानी मापकों के साथ, बिहार नकली कारोबार और अक्षमता के वर्षों से पीड़ित मुद्दों को समाप्त करने का लक्ष्य रखता है। राज्य सरकार के संयुक्त प्रयासों के अलावा, नागरिकों के सक्रिय भागीदारी से इस भूमि प्रशासन प्रणाली को समर्थन देना महत्वपूर्ण है, जिससे बिहार के लोगों के लिए एक न्यायसंगत और पारदर्शी भूमि प्रशासन प्रणाली को बढ़ावा मिले।

ये भी पढ़े: Bihar Bhumi Original Kewala घर बैठे Online आसान प्रक्रिया

Badhta Bihar News
Badhta Bihar News
बिहार की सभी ताज़ा ख़बरों के लिए पढ़िए बढ़ता बिहार, बिहार के जिलों से जुड़ी तमाम अपडेट्स के साथ हम आपके पास लाते है सबसे पहले, सबसे सटीक खबर, पढ़िए बिहार से जुडी तमाम खबरें अपने भरोसेमंद डिजिटल प्लेटफार्म बढ़ता बिहार पर।
RELATED ARTICLES

अन्य खबरें