बिहार में 83 कोरोना नए मरीज, आंकड़ा 2477, मिड डे मिल से बनेगा मजदूरों का खाना

0
896
bihar breaking news

बिहार सरकार ने निर्णय लिया है कि राज्य के प्रारंभिक स्कूलों में बच्चों के मध्याह्न भोजन के लिए भंडारित अनाज से प्रवासियों का खाना बनेगा। जिन स्कूलों में क्वारंटाइन सेंटर बने हैं, अगर वहां अनाज कम पड़े तो उस प्रखंड के दूसरे विद्यालयों में भंडारित अनाज का भी उपयोग किया जा सकता है। इस बीच बिहार में 83 नए कोरोना के मरीज की पुष्टि हुई है जिस से राज्य में कुल आंकड़ा 2477 पर पहुँच गया।

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने शुक्रवार को सभी जिला पदाधिकारियों और जिला शिक्षा पदाधिकारियों को यह आदेश दिया है। गौरतलब है कि प्रदेश के साढ़े छह हजार से अधिक स्कूलों में क्वारंटाइन सेंटर बने हैं और वहां बड़ी संख्या में प्रवासियों को रखा गया है।

शुक्रवार को सभी डीएम को भेजे आदेश

शुक्रवार को बिहार सरकार द्वारा सभी डीएम को भेजे आदेश में श्री महाजन ने कहा कि राज्यभर में संचालित क्वारंटाइन सेंटर पर विद्यालय में जमा अनाज का उपयोग किया जा सकता है। जरूरी हो तो प्रखंड के दूसरे स्कूलों से भी जमा अनाज लाकर भोजन बनाया जा सकता है। विद्यालय संचालन प्रारंभ होने पर क्वारंटाइन सेंटर पर विद्यालयों से लेकर उपयोग किए गए अनाज की प्रतिपूर्ति जिला प्रशासन द्वारा विद्यालय को की जाएगी। डीपीओ एमडीएम का यह दायित्व होगा कि प्रत्येक विद्यालय से क्वारंटाइन सेंटर पर उपलब्ध कराए गए अनाज की प्राप्ति रसीद प्राप्त कर कार्यालय में सुरक्षित रखेंगे। विद्यालय का संचालन आरंभ होने पर क्वारंटाइन सेंटर पर उपलब्ध करायी गयी खाद्यान्न की मात्रा के समान अनाज जिला प्रशासन से प्राप्त कर स्कूल में एमडीएम का संचालन आरंभ करायेंगे।

महाजन ने कहा कि सभी स्कूलों में कोविद-19 के संक्रमण से बचाव के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के पूर्व चतुर्थ त्रैमास 2019-20 का खाद्यान्न आवंटन सभी जिलों में एमडीएम संचालित करने के लिए किया जा चुका था। वर्तमान में लॉकडाउन के कारण सभी स्कूलों में मध्याह्न भोजन योजना का संचालन बंद है। इसकी समतुल्य राशि बच्चों के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से दी जा रही है।

नीतीश कुमार ने लिया क्वारेंटाइन सेंटर का जायजा

दूसरे प्रदेशों से आ रहे प्रवासियों को क्वारंटाइन केंद्रों पर रखा जा रहा है कई केंद्रों से कुव्यवस्था की खबरें आ रही हैं। इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कल से सभी केंद्रों का जायजा वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से ले रहे हैं। इन सभी सेंटर पर प्रवासियों को सुविधाएं मिल रही हैं या नहीं, इसे लेकर सीएम नीतीश कुमार ने शनिवार को भी कुछ क्वारेंटाइन केंद्रों की वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए समीक्षा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रवासी मजदूरों के लिए सरकार योजना बना रही है और सभी को बिहार में ही रोजगार देंगे। मुजफ्फरपुर में मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज बेला एवं बखरा पंचायत सरकार भवन में स्थित क्वॉरेंटाइन केंद्रों का निरीक्षण किया। केंद्र में रह रहे प्रवासियों से रूबरू हुए और क्वॉरेंटाइन केंद्रों पर दी जा रही सुविधाओं की जानकारी ली।

उन्होंने डिजिटल माध्यम से पूरे क्वॉरेंटाइन केंद्रों में शौचालय, पेयजल, रसोईघर, आवासन की व्यवस्था एवं केंद्रों की साफ-सफाई का बारीकी से निरीक्षण किया। क्वॉरेंटाइन केंद्रों में दी जा रही सुविधाओं से मुख्यमंत्री संतुष्ट दिखे। उन्होंने केंद्रों में रह रहे लोगों से अपील भी किया की सभी लोग क्वॉरेंटाइन केंद्रों में ही रहें और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। यही कोरोना से बचाव का एक प्रभावी उपाय है।

बिहार में मिले और 83 कोरोना मरीज, आंकड़ा बढ़कर 2477 हुआ

बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से जुड़ी ताजा अपडेट जारी किया है। इस नए अपडेट में स्वास्थ्य विभाग द्वारा 82 नए मरीजों की पुष्टि की गई है। इसके साथ ही राज्य में कोरोना मरीजों आंकड़ा बढ़कर 2345 हो गया है।

रोहतास से 11, कटिहार से 35, मुंगेर से 6, गोपालगंज 3, बेगुसराई 1, बांका 2, खगड़िया 2, मधुबनी 3, भागलपुर 2, बेगूसराय 8, नालंदा 2, औरंगाबाद 2, नवादा 1, जहानाबाद 1, अरवल 1, कैमूर से 3 नए मामलों की पुष्टि हुई है।

कोरोना काल में चढ़ने लगा बिहार विधानसभा 2020 का सियासी पारा, वार-पलटवार शुरू