भावना कंठ – इंडियन एयर फोर्स की पहली महिला फाइटर पायलट

0
1403
bihar breaking news

फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ ने युद्ध मिशन में शामिल होने की योग्यता हासिल करने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन इतिहास रच दिया है। वायु सेना के अधिकारियों ने बताया कि भावना कंठ, दिन में लड़ाकू विमान मिग-21 को उड़ाकर इस मिशन को पूरा किया। बिहार की बेटी भावना इस वक्त बीकानेर स्थित नल बेस पर तैनात हैं।

पहली बार अकेले उड़ाया मिग-21

वायुसेना के अधिकारी ने बताया कि एक बार वह रात के मिशन का प्रशिक्षण पूरा कर लें, तो उन्हें रात्रि अभियान में भी जाने की इजाजत दी जाएगी। भावना फाइटर स्क्वॉड्रन में नवंबर 2017 में शामिल हुई थीं और पहली बार अकेले मिग-21 को पिछले साल मार्च में उड़ाया था। अधिकारी ने बताया कि उनकी कड़ी मेहनत और लगन के कारण वह इस मुकाम को हासिल करने वाली भारतीय वायु सेना की पहली महिला अधिकारी बनी हैं।

Lft. Bhawna Kanth
भारत की प्रथम महिला पायलट, भवाना कंठ, अवनि चतुर्वेदी और मोहना सिंह

भावना भारतीय वायु सेना के पहले बैच की महिला फाइटर पायलट हैं। उनके साथ दो अन्य महिला पायलट अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह को 2016 में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में चुना गया था। एक साल से कम समय में ही सरकार ने प्रयोग के तौर पर महिला पायलटों के लिए युद्ध मिशन में शामिल होने का रास्ता खोलने का निर्णय लिया था।

बिहार की बेटी हैं भावना कंठ

बिहार के दरभंगा के घनश्यामपुर ब्लॉक के बौर गाँव की रहने वाली हैं, यहाँ वो अंतिम बार 2016 में आयी थी। भावना का जन्म और रिफाइनरी टाउनशिप, बेगूसराय में हुआ। उन्होंने भारतीय वायुसेना में शामिल होने से पहले बेंगलुरु के बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से बीई (मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स) पूरा किया।

ये भी पढ़े- बिहार सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण हेतु उठाये कदम

उनके पिता तेज नारायण कंठ, जो बरौनी में इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं, उन्होंने बताया की – “भावना शुरू से ही पढ़ाई में अच्छी थीं। वह अपने स्कूल के दिनों से उड़ान भरने की बात करती थी। भले ही उसने बेंगलुरु से इंजीनियरिंग की, फिर भी वह वायु सेना के लिए प्रयास करती रही। हम उसपर भहुत गर्व करते हैं। एक पिता और क्या माँग सकता है?

अपने इस उपलब्धि पर भावना ने बताया की “यह कुछ ऐसा था जिसके लिए केवल लड़कों से ही अपेक्षा की जाती थी। यह एक स्टीरियोटाइप था। लेकिन मेरे माता-पिता ने मुझे कभी यह महसूस नहीं कराया कि मैं एक लड़की हूँ और मुझे सपने देखने और पूरा करने का हक़ नहीं हो।”

बढ़ता बिहार की टीम आपको ढेर सारी शुभकामनाएं देती है और साथ ही आपके जज्बे को सलाम करती है।