मौलिक और बुनियादी सुविधाओं से पिछड़ा और महरुम है अरवल का कुर्था विधानसभा

0
878
bihar breaking news
  • ग्रामीणों की पूरजोर मांग स्थानीय विधायक को बदलकर नये प्रत्यासी को लाया जाये
  • वर्तमान विधायक सत्यदेव कुशवाहा के स्थान पर सुनील यादव योग्य और सफल उम्मीदवार

अरवल। बिहार में आसन्न बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एक और जहां चुनाव की बिगुल बजने की तैयारी की इंतजार में में लोग बैठे हैं वहीं सूबे के कई विधानसभा क्षेत्रों में वर्तमान विधायक के कार्यो का गुणा-भाग करने के लिये मतदाता लग चुके हैं। इसी आलोक में शनिवार को जब अरवल जिला के संवाददाता कुर्था विधानसभा में कुछ क्षेत्रों का दौरा कर मतदाताओं की नब्ज टटोली तो कई लोगों के अलावे बहुत से लोग क्षेत्र के विधायक सत्यदेव कुशवाहा के कार्यों के प्रति काफी नाराज और गुस्से में नजर आये।

कुर्था विधानसभा विधायक का लेखा-जोखा

इस बावत जब संवाददाता कुर्था विधानसभा के प्रतापपुर, पासी बिगहा गांव के ग्रामीणो ने तीखी शब्दों में निराशा भरी नजरो से कहा कि आज जहां भारत 21 वीं शदी की दहलीज पर खड़ा है वहीं मालूम नहीं कई शदी के पिछड़े काल से हमलोग मौलिक और बुनियादी सुविधाओं से पिछड़े हैं। इस संबंध में जब प्रतिनिधि ने ग्रामीणों से विकास और वर्तमान विधायक की कार्यशैली पर सवाल किया तो ग्रामीणों ने बताया कि वर्तमान विधायक सत्यदेव कुशवाहा क्या किये?

उन्होंने बस यही किया कि सड़क बनाने के नाम पर नगरों-गांव और मोहल्लों की चौड़ी सड़क को संकीर्ण बना दिये। जिससे लोगों की घर से निकलनेवाली पानी की स्थान पर आपस में हमेसा विवाद होती रहती है। ग्रामीणों से बातचीत के दौरान मतदाताओं ने बताया कि वर्तमान विधायक सिर्फ लूटने का कार्य किये और इससे आगे कोई कार्य नहीं किये। शिक्षा और अन्य प्रकार की अन्य सुविधाओं से काफी पिछड़ा है अरवल जिला का कुर्था विधानसभा क्षेत्र।

सुनील यादव करते हैं ग्रामीणों की मदद

वहीं अगर गांव में हल्की-फुलकी विवाद हो जाये तो इसे सुलझाने की कोई प्रक्रिया विधायक के पास नहीं रहती। इस बावत अगर गांव के समाजसेवी और सभी के काम में आगे बढ़कर काम आनेवाले सुनील यादव के पास ग्रामीण पहुंचते हैं तो बगैर कोई परेशानी अथवा कोई हिचकिचाहट के साथ ग्रामीणों के साथ कदम से कदम मिलाकर सुनील यादव समस्या का निबटारा करते हैं।

इस बात ग्रामीणों ने इस बार की आसन्न बिहार विधानसभा चुनाव में स्थानीय विधायक को बदलने का मन बना चुके हैं। बहरहाल! अब देखना है कि आनेवाला बिहार विधानसभा में परिणाम क्या रंग लाता है यह तो आनेवाला समय ही बतायेगा।