अरवल में जेएनएनआई संघ ने किया विरोध मार्च व प्रदर्शन

0
अरवल में जेएनएनआई संघ ने किया विरोध मार्च व प्रदर्शन
अरवल में जेएनएनआई संघ ने किया विरोध मार्च व प्रदर्शन

नारा किया बुलंद जिला प्रशासन पत्रकारों पर फर्जी मुकदमा करना करे बंद
कुर्था (अरवल)। देशभर में हो रहे पत्रकारों पर हमले, फर्जी मुकदमों में फंसाने की कार्रवाई और कोरोना व लॉकडाउन के नाम पर मीडिया घरानों द्वारा पत्रकारों की बड़े पैमाने पर की गई छंटनी के विरोध में अरवल जिले के संस्कृति भवन से मंगलवार को’जेएनएनआई संघ अरवल’ के तत्वावधान में विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम किया।

“गिरफ्तार पत्रकार को रिहा करो” “झूठे मुकदमे वापस लो”, नारे भी लगाये

जिसकी अध्यक्षता जिला अध्यक्ष अमरेश कुमार अमर ने किया। इस दौरान “पत्रकारों पर हमले बंद करो”,”पत्रकारों की छंटनी वापस लो” और “गिरफ्तार पत्रकार को रिहा करो” “झूठे मुकदमे वापस लो”,जैसे जोरदार नारे भी लगाये गये। मौके पर विरोध-प्रदर्शन कार्यक्रम में नेशनलिस्ट यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट, बिहार (एनयूजे,बिहार) के उपाध्यक्ष देवेंद्र कुमार ने बताया कि यह विरोध मार्च सांकेतिक है।

इसके बाद भी अगर मीडिया प्रबंधन द्वारा पत्रकारों की अवैध तथा अनैतिक छटनी नहीं रोकी गई तो अखबार के दफ्तरों के आगे धरना प्रदर्शन किया जाएगा। पत्रकारों की छंटनी रोकने और छंटनी किए गए पत्रकारों की सेवा पुनः बहाल करने को लेकर प्रिंट तथा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सारे प्रबंधन को पत्रकार परिसंघ की ओर की जाएगी।

एनयूजे, बिहार सरकार से मांग करती है कि एक के बाद एक कई हमले हुए

उन्होंने बताया कि एनयूजे, बिहार राज्य सरकार से मांग करती है कि हाल के समय में पत्रकारों पर एक के बाद एक कई जानलेवा हमले हुए हैं। त्रिवेणीगंज (सुपौल),वैशाली, सिवान आदि कई जगहों पर पत्रकारों के खिलाफ झूठे मुकदमे और उन पर हुए हमलों को लेकर पुलिस प्रशासन का रवैया सुस्त रहा। अगर पत्रकारों पर हमले नहीं रुके तथा झूठे व फर्जी मुकदमों को वापस नहीं लिया गया तो एनयूजे, बिहार क्रमवार तरीके से आंदोलनात्मक रुख अख्तियार कर विरोध प्रस्तुत करेगा। जिला अध्यक्ष अमरेश कुमार अमर ने कहा कि अरवल जिला इकाई हमेशा पत्रकारों के हक और अधिकार के लिए संघर्ष करती है और संघर्ष करती रहेगी।

देश के कोने-कोने में वर्तमान समय में पत्रकारों पर हमला लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला है जो आने वाले समय में पत्रकारिता को बेड़ियों में जकड़ने का कार्य साबित होगी।

इस दिशा में सरकार के विरोध में चरणबद्ध तरीके से आंदोलन चलाया जाएगा। विरोध मार्च में शामिल पत्रकारों में संजय रंजन, बैजू ठाकुर, राधाकांत शर्मा, अरुण शर्मा, विश्वनाथ कुमार, आजाद कुमार, छायाकार सतेंद्र कुमार, महेंद्र कुमार, पंकज नारायण मिश्र, निशांत मिश्रा, भाकपा माले के रविन्द्र कुमार, सोएब आलम के अलावे अन्य लोग उपस्थित थे।

गया के शहीद जवान की शवयात्रा की अगवानी करने उमड़े लोग

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here